spscm text.png

मध्य प्रदेश के दूरस्थ आदिवासी इलाकों में पानी और आजीविका की पहल से जुड़ी जमीनी संस्था समाज प्रगति सहयोग है। एस.पी.एस. कम्युनिटी मीडिया इसकी एक अभिन्न इकाई है। इनके द्वारा बनी फिल्में निम्न स्तर पर गरीबी से जूझते आदिवासियों की सामाजिक स्थिति, उनकी अपेक्षाएं, उनकी पहचान, और क्षमताओं से जुड़ी हैं। वे आमलोगों की भागीदारी से परिवर्तन की आस जगाती फिल्में यहां के स्थानीय लोगों की टीम द्वारा ही तैयार की गईं हैं। "पीपल्स मोबाइल सिनेमा" द्वारा इन फिल्मों को हर माह 150 बार से भी ज्यादा अलग अलग इलाकों में दिखलाया जाता है।

अभी तक की बनी 200 से ज्यादा स्थानीय समस्याओं के वृतचित्र, कम्युनिटी वीडियो लोगों की ट्रेनिंग को ध्यान में रखकर ही बनाए गए हैं।

हाल ही में ई-पत्रिका और पोडकास्ट भी इस कड़ी में जुड़ गए हैं।

SPS Community Media is part of Samaj Pragati Sahayog (SPS), a grass-roots initiative for water and livelihood security, based out of a remote tribal village in Madhya Pradesh. 

 

People on the margin and their predicaments, their aspirations, their identity and survival as a community pitched against poverty – SPS Community media weaves in these nuances into films in a dynamic, interactive process, in partnership with the local community. The core team comprises local people of the area who have been initiated into making films. The guiding principle has been to bring out the voices of the people reflecting lived-in stories of the region. Articulating the interaction of SPS with the community, these films etch stories of hope, which are then shared within the community itself through People’s Mobile Cinema. Over 150 screenings take place every month in different locations. More than 200 films have been produced so far – social documentaries, community videos and training films. In recent times, e-magazines and podcasts are only adding to the repertoire.